विधानसभा में उठा 14 हजार 580 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया का मामला, जानें- क्या हुई आपके फायदे की बात?

हाइलाइट्स

बीजेपी विधायक अजय चन्द्राकर ने विधानसभा में शिक्षक भर्ती का मुद्दा उठाया
मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम की बात से अंसतुष्ट नजर आए विधायक
विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने दिए आवश्यक निर्देश

रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा के मानसून सत्र में मंगलवार को विभिन्न मुद्दे सदन में उठाए गए. सदन में छत्तीसगढ़ में 14 हजार 580 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया का मामला भी उठा. बीजेपी विधायक अजय चंद्राकर ने शिक्षक भर्ती का मामला उठाया. विधायक चन्द्राकर ने कहा- इस विषय पर चौथी बार सवाल पूछ रहा हूं. बार-बार सवाल पूछने के बाद अब तक कुल 10 हजार 441 पदों की ही भर्ती हो पाई है. पिछले पांच महीने में सिर्फ़ आठ लोगों का सत्यापन हुआ है.

विधायक चंद्राकर ने पूछा-30 जून 2022 की स्थिति में किन-किन संवर्गों की कितनी कितनी पदों पर प्रक्रिया पूरी हो गई है? सत्यापन काम पूरा हुआ या नहीं? एक पद के सत्यापन के लिए कितनी अवधि लगती है. देरी की वजह क्या है? इस सवाल के जवाब में स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने जवाब में कहा- व्याख्याता का सत्यापन राज्य स्तर पर, शिक्षक का सत्यापन संभाग स्तर पर और सहायक शिक्षकों का सत्यापन ज़िला स्तर पर किया जाता है. मेरिट क्रम में सत्यापन किया जाता है.

जवाब से दु:खी हुए विधायक
अजय चंद्राकर ने कहा कि- मैं मंत्री के जवाब से बेहद दुखी हूं. रोना आता है. छत्तीसगढ़ को मजाक बनाकर रख दिया है. छत्तीसगढ़ के बेरोजगार युवाओं से जुड़ा मामला है. इस सरकार को छत्तीसगढ़ के भविष्य के बारे में बात करने का अधिकार नहीं है. स्पीकर डॉक्टर चरणदास महंत ने मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम से कहा- अपने विभाग से कहिए कि भर्ती प्रक्रिया के लिए एक निश्चित समय सीमा तय कर लें.

विधानसभा सत्र के दौरान सदन में विधायक चंदन कश्यप ने राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत शेड नेट हाउस और पैक हाउस के निर्माण में अनियमितता किए जाने की ओर इस मंत्री का ध्यान आकर्षित किया. इसपर केशकाल विधायक संतराम नेताम ने भी योजना में पाई जा रही गड़बड़ी को देखते हुए सदन में जांच की मांग की. कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने उद्यानिकी अधिकारी को निलंबित करने की घोषणा की और जांच के लिए संचालनालय के अधिकारियों को बस्तर भेजने की बात कही गई. दोनों विधायकों की बात को समझते हुए मंत्री रविंद्र चौबे ने योजना के सचिव को विस्तृत जांच के आदेश देते हुए एक अधिकारी को निलंबित कर दिया.

Tags: Chhattisgarh news, Raipur news

Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published.